Kathal ki Kheti: कम लागत में शुरू करें कटहल की खेती 2024, होगा लाखों में कमाई,देखे free

Kathal ki Kheti – वर्तमान समय में किसान कृषि में कई तरीके से पैसे कमा रहे हैं परंतु उन तरीकों में मेहनत ज्यादा करनी होती है और खर्चा भी ज्यादा आता है। लेकिन कटहल की खेती में केवल एक बार खर्चा आता है जिसके बाद आप इससे जिंदगी भर फल प्राप्त कर सकते है। इसमें एक बार पेड़ लग जाने के बाद आपको दोबारा खर्च खर्चा नहीं आता है। यदि आप कम पैसे में ज्यादा मुनाफा वाला खेती करने के तलाश में है तो आज का यह पोस्ट आपके लिए है। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको Kathal ki Kheti से संबंधित सभी जानकारी देने वाले हैं।

Kechua Khad Business: शुरू करें केंचुआ खाद का व्यवसाय, होगा लाखों में कमाई

कम लागत में शुरू करें कटहल की खेती, होगा लाखों में कमाई – Kathal ki Kheti
Kathal ki Kheti

Kathal ki Kheti किसान भाइयों को कटहल की खेती (Kathal ki Kheti) शुरू करने से पहले इसकी खेती के बारे में अधिक जानकारी का होना बेहद जरूरी होता है। ऐसे में अगर आप बिना जानकारी के कटहल की खेती को कर देते हैं तो आपको भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। आपको बता दें कि कटहल का पौधा एकमात्र ऐसा पौधा होता है जिसे आप किसी भी जलवायु में लगा सकते हैं। 

यदि आपके क्षेत्र में ज्यादा तापमान मौजूद है तो फिर भी आप Kathal ki Kheti कर सकते हैं। कटहल की खेती के लिए मिट्टी का मिट्टी के PH मान को ध्यान रखा जाता है। बता दे की कटहल की खेती में मिट्टी का पीएच मान 7 से 7.5 के बीच होना चाहिए अन्यथा कटहल का पौधा सही तरीके से वृद्धि नहीं होता है। 

कटहल की खेती कैसे करें?
Kathal ki Kheti

बात करें कटहल की खेती कैसे करें? तो कटहल की खेती करने के लिए सबसे पहले आपको खेतों की जुताई करने की आवश्यकता होती है। उसके पश्चात निश्चित दूरी पर कटहल के पौधों को गड्ढे खोदने के लिए आपको एक लाइन से दूसरे लाइन के बीच की दूरी 7 से 8 मी बीच रखना होता है। वहीं प्रत्येक पौधों के बीच की दूरी भी 7 से 8 मीटर तक रखना होता है। इस हिसाब से अगर आप कटहल के पौधों को लगाते हैं तो एक एकड़ जमीन में आप कम से कम 150 से 160 पौधे लगा सकते हैं। 

कटहल के पौधे लगाने के लिए 1 महीने पहले ही गड्ढे करने होते हैं। उसके बाद गड्ढे को खुले में छोड़ देना होता है ताकि इसके अंदर जो भी कीटाणु है वह धूप की रोशनी से खत्म हो जाए। फिर उसके अंदर खाद यानी कि गोबर को डालना चाहिए। गड्ढे को खोदते समय कम से कम 1 मीटर लंबा चौड़ा और गहरा गड्ढा खोदना चाहिए। गड्ढे को खोदने के बाद गड्ढे में पानी देना है और पानी जब मिट्टी सूख जाता उसके ऊपर से पौधे लगाना होता है।

कटहल के उन्नत किस्में पौधे  
Kathal ki Kheti

बता दे कि हमारे देश में कटहल के कई सारे उन्नत किस्म के पौधे मौजूद होते हैं जिनकी खेती कर किसान अधिक फाटल के फल की प्राप्त कर सकता है। अच्छा मुनाफा करने के लिए कटहल के प्रसिद्ध प्रजाति गुलाबी, स्वर्ण मनोहर, खजवा, सिंगापुरी, रुद्राक्षी इत्यादि की खेती किसान कर सकते हैं। कटहल के इन किस्म की खेती कर आप अच्छा खासा मुनाफा कर सकते हैं। कटहल के पौधों की रोपाई मुख्य तौर पर जून से जुलाई महीने मे किया जाता है यह समय कटहल की खेती (Kathal ki Kheti) के लिए सबसे अच्छा समय होता है।  

कटहल की खेती में लागत और मुनाफा check

यदि आप कटहल की खेती करने को लेकर इच्छुक हैं और उससे पहले आप जानना चाहते हैं कि एक एकड़ जमीन में Kathal ki Kheti करने पर कितना खर्चा आएगा तो आपको बता दें कि यदि आप बाजार से एक कटहल के पौधे खरीदते हैं तो उसका भाव 140 से 150 रुपए के बीच आता है। वहीं अगर आप एक एकड़ जमीन पर खेती कर रहे हैं तो उसमें आप अधिकतम 150 से 160 पौधे लगवा सकते हैं। 

इस हिसाब से आपका इन पौधों का कीमत 20000 से 25000 रुपए के बीच आएगा। इस हिसाब से पौधे लाने तथा अन्य खर्चों में आपका अधिकतम शुरुआती वर्ष में खर्चा 30000 से 35000 तक आ सकता है। वहीं अगले वर्ष आपको अधिकतम 5000 तक का खर्चा आ सकता है।

वही बात करें कटहल की खेती (Kathal ki Kheti) के मुनाफे के बारे में बात करें तो कटहल के पेड़ से मुख्यतः कई सालों तक फल प्राप्त होता है। जब ये पेड़ पुराने हो जाते हैं तब फल बहुत ही कम लगा लगता है। कटहल की खेती एक हेक्टेयर जमीन में अगर आप करते हैं तो उसमें आप 150 से 160 पौधे की रोपाई कर सकते है। 

कटहल के पौधे पूर्ण रूप से विकसित होने के पश्चात प्रत्येक साल पौधों से 900 से 1000 तक के फल प्राप्त कर सकते हैं और इस प्रकार के कटहल के फल की उपज से किसान 3 से 4 लाख की कमाई आसानी से प्रत्येक वर्ष कर सकता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top