Potato Best 10 Varities आलू की 10 ऐसी किस्में जो देती है बंपर पैदावार, 500 क्विंटल की गारंटी 2024 में होगा मुनाफा ही मुनाफा

Potato Best 10 Varities


Potato Best 10 Varities दोस्तों आज की जानकारी उन सभी किसान भाइयों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होने वाली है जो किसान भाई अपने खेत में आलू की खेती करके अच्छा मुनाफा कमाना चाहते हैं दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ज्यादातर किसानों को सही किस्म का बी न मिलने की वजह से उनकी फसल उन्हें अच्छा प्रॉफिट नहीं दे पाती है आज के इस लेख में हम आपके लिए आलू की 10 ऐसी वैरायटी लेकर आए हैं जिनका यदि आप अपने खेत में लगते हैं तो आपको उत्पादन में काफी बढ़ोतरी देखने को मिलेगी

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत किसानों को मिलेगें ₹12000, जानें पात्रता व आवेदन की प्रक्रिया

यहां पर बताई गई सभी किस्में कुफरी कंपनी की है उत्पादन के मामले में यह कंपनी किसी नामी कंपनी से काम नहीं है कम समय में अधिक पैदावार देने वाली यह किस्में सभी किसान भाइयों को करोड़पति बनने में देर नहीं लगाती है। चलीए एक-एक करके सभी के बारे में विस्तार से जानते हैं

★ अलंकर

Potato Best 10 Varities


कुफरी कंपनी द्वारा निर्मित यह एक उन्नत वैरायटी है यदि आप इस बीज का उपयोग करते हैं तो यह आपको अधिकतम 250 क्विंटल प्रति हेक्टेयर के हिसाब से उत्पादन देने में सक्षम है, यह वैरायटी 70 से 75 दिन में तैयार हो जाती है आलू की इस वैरायटी को आप भारत के उत्तरी मैदानी क्षेत्र में उगा सकते हैं

★ गंगा


आलू की यह वेराइटी बहुत ही कम समय में तैयार हो जाती है इसके साथ ही यह वैरायटी अधिकतम 300 क्विंटल प्रति हेक्टेयर के हिसाब से पैदावार देती है

★ चंद्रमुखी

Potato Best 10 Varities


आलू की यह किस्म मात्र 90 दिन में पक जाती है उत्पादन क्षमता की बात करें तो यह वैरायटी आपको 250 क्विंटल प्रति हेक्टेयर के हिसाब से पैदावार देने में सक्षम है उत्तरी भारत के मैदानी और पठारी भागो में इस वैरायटी को उगाया जा सकता है

★ ज्योति


आलू की इस वैरायटी के बारे में बात करें तो यह किस्म बाकी सभी किस्म से थोड़ा सा अधिक समय लेती है यानी इसको पकाने में 150 दिन तक का समय लग सकता है लेकिन इसका उत्पादन 250 क्विंटल प्रति हेक्टेयर के हिसाब से देखने को मिलता है

★ नीलकंठ


आलू की इस वैरायटी को पकाने में मात्र 90 से 100 दिन का समय लगता है इसके साथ ही स्वाद के लिए यह आलू सबसे अच्छा माना जाता है जिसके कारण मंडीयो में इसकी डिमांड सबसे ज्यादा रहती है इसके अलावा यह किस्म पैदावार भी सबसे अधिक देती है जो की 400 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक उत्पादन देने में सक्षम है

★ सिंदूरी


आलू की यह वैरायटी सर्दियों में पाले को अधिक सहन कर सकती है यानी इस वैरायटी को आप वहां पर भी उगा सकते हैं जहां पर सर्दी ज्यादा पड़ती है आलू की यह वैरायटी 120 दिन में पककर तैयार हो जाती है इसके अलावा यह वैरायटी लगभग 300 क्विंटल से लेकर 400 क्विंटल प्रति हेक्टेयर के हिसाब से उत्पादन भी देती है

★ देवा

Table of Contents


आलू की यह वैरायटी बंपर पैदावार के लिए प्रसिद्ध है प्रति हेक्टेयर के हिसाब से यह वैरायटी 400 क्विंटल तक उपज दे सकती है इसके अलावा यह है मात्र 120 दिन में तैयार भी हो जाती है मैदानी भागों के अलावा पहाड़ी इलाकों में भी इसकी फसल ली जा सकती है

★ स्वर्ण


आलू की यह वैरायटी मात्र 110 दिन में तैयार हो जाती है और प्रति हेक्टेयर के हिसाब से 300 क्विंटल तक की पैदावार देती है हालांकि यह है वैरायटी खराब जल्दी होती है यानी इस वैरायटी के आलू को आप ज्यादा दिन तक रोक कर नहीं रख सकते

★ लालिमा


आलू की यह किस्म 100 दिन में पक कर तैयार होती है हालांकि इसका उत्पादन बाकी किस्म से थोड़ा कम है जो की 200 क्विंटल से लेकर 250 क्विंटल पड़ती हेक्टर तक का ही उत्पादन देती है

★ बहार


मैदानी भागों के लिए सबसे अच्छी माने जाने वाली यह किस्म मात्र 90 से 110 दिन में पक कर तैयार हो जाती है और लगभग 200 क्विंटल तक की पैदावार देती है

इस प्रकार यदि कोई भी किसान भाई अपने खेत में आलू की फसल बोना चाहता है तो यहां पर बताई गई वैरायटी में से किसी भी एक वैरायटी का अपने स्तर पर चुनाव कर सकता है हालांकि आलू की सभी वैरायटी किसान के खेत की मिट्टी, पानी व वातावरण पर निर्भर करती है किसी भी वैरायटी के बारे में अंतिम निर्णय लेने से पहले एक बार अपने स्तर पर बीज के बारे में जानकारी जरूर जुटा ले

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top